सुन्दर कांड Sunderkand Hindi | Sampurn Sunda Kand

सुंदर काण्ड हिंदी में – Sundar Kand in Hindi

Sunderkand सुन्दर कांड pdf सुन्दर कांड Sundar Kand

सम्पूर्ण सुन्दर कांड, सुन्दर कांड MP3 और लिरिक्स

 

 

 

 

 

 

 

   

 ॥ जय श्री राम ॥
निवेदन:
सुंदर काण्ड मंत्रो का सागर है। जो पढ़े भवतर जाय जो सुने उसके किस्मत ही बदल जाए, दोस्तो महापुरुषों का सुन्दरकाण्डके संदर्भ में
कहना है की इसके पाठ श्रवण और उच्चारण से व्यक्ति का कल्याण हो जाता है।

सुंदर काण्ड के बारे में कहा गया है –
सुन्दरे सुन्दरो रामः सुन्दरे सुन्दरी कथा |
सुन्दरे सुन्दरी सीता सुन्दरे किन्न सुन्दरम् ॥
अर्थात् सुन्दरकाण्डमें श्रीराम सुन्दर हैं,

कथा सुन्दर है, सीता सुन्दर हैं । सुन्दर में क्या सुन्दर नहीं है ।

इसके अतिरिक्त इसमें हनुमान्जीका पावन-
चरित्र है जो भक्तोंके लिये कल्पवृक्ष है।

सुंदर काण्ड पड़ने के फायदे :

मनोकामना पूर्ण होती है ।
नकारात्मक सक्तियो से छुटकारा मिलती है।
ग्रह नक्षत्रों के पीड़ा दूर होती है ।
रोग दोष और बीमारी भी ठीक हो जाता है।
गरीबी से छुटकारा बहुत जल्द मिलता है।
हनुमान जी सपने में दर्शन भी कई लोगो को देते है।
सुंदर काण्ड पड़ने से मन शांत और एकाग्र रहता है।
सुंदर काण्ड पड़ने से डर भग जाता है।
सुंदर काण्ड पड़ने से मोक्ष मिलता है।
सुंदर काण्ड पड़ने से शत्रु का सर्वनाश हो जाता है।

सुंदर काण्ड कैसे पड़े :
सुंदर काण्ड कही भी कही पर बैठकर पड़ सकते हो जहा का वातावरण साफ हो स्वच्छ हो। घर में आफिस में सड़क के किनारे स्वच्छ स्थान पर कही पर भी हो पड़ सकते हो । लेकिन मंदिर में या घर के पूजा कक्ष में पड़े तो ज्यादा लाभ मिलेगा।

क्या महिलाए सुंदर काण्ड पड़ सकती है :
बिलकुल जो महिलाएं साफ सुथरी हो, मासिक धर्म न हो अर्थात पिरेड न चल रहा हो तो पड़ सकती है।

सम्पूर्ण सुंदर काण्ड कैसे सुने :
हमारे पोस्ट के ऊपर प्ले बटन पर क्लिक कर सम्पूर्ण सुंदर काण्ड पड़ सकते हो।

सुंदर काण्ड डाउनलोड कैसे करे :
हमारे पोस्ट के ऊपर Download पर क्लिक कर सम्पूर्ण सुंदर काण्ड डाउनलोड कर सकते हो ।

मुझे सुंदर काण्ड के साथ हनुमान चालीसा भी पढ़नी हो तो क्या करू :
मेरे ब्लॉग के टॉप पर हनुमान चालीसा लिखा है उसे क्लिक कर पड़ सकते हो ।

कमेंट में जय श्री राम जरूर लिखना आपके मनोकामना शीघ्र पूर्ण होगा 

………………………………………………………………………

hanumanchalisa305

JAI SHREE RAM || JAI HANUMAN ||

Comments are closed.