शिव आरती Shiv Aarti | shiv ji ki aarti lyrics | om jai shiv omkara aarti

 ! शिव आरती के बाद ध्यान !

 

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम् ! सदा बसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानीसहितं नमामि !!

           ! क्षमा प्रार्थना !

आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्। पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर॥ मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जनार्दन। यत्पूजितं मया देव! परिपूर्ण तदस्तु मे॥

 

 

♦️ हिंदी में क्षमा प्रार्थना ♦️

 

हे भगवान भोलेनाथ ? हे प्रभु आपको कोटि कोटि प्रणाम! हे – प्रभु अगर आपके आरती में, पूजा में, पाठ में, भोग में, किसी भी प्रकार का त्रुटी हुई हो तो उसे क्षमा करना। हे प्रभु हमे सुदबुद्धि प्रदान करना। तथा हे प्रभु आपके कृपा हम पर और हमारे परिवार पर हमेशा बनी रहे, तथा यहां उपस्थित लोगो पर बनी रहे- ऐसा हमे आशीर्वाद प्रदान करे? आपके श्री चरणों को बारंबार प्रणाम।

 

प्रेम से बोलो भोलेलनाथ शिव शम्भू की जय……

       Qution 

शिव जी की आरती में क्या क्या सामग्री रखे ? Shiv Aarti

इसके बिना नहीं मिलता शिव पूजा की फल दोस्तो भगवान भोलेनाथ को वैसे एक लोटा जल ही चढ़ा दो तो वह सहज स्वीकार कर लेता है लेकिन अगर शिव जी की आरती (shiv aarti) कपूर से उतारे तो अत्यंत लाभकारी और हितकर होता है। शिव आरती के बीच में किसी को कपूर जलाने को कहे या स्वयं जलाकर कपूर आरती बीच में ही भोलेनाथ को अवश्य दिखाईए। बिना कपूर आरती के शिव आरती (shiv  aarti) पूर्ण नहीं माना जाता।

 

Shiv aarti related keywords 

shiv aarti, shiv aarti lyrics, shiv ji aarti, shiv ji ki aarti lyrics, om jai shiv omkara aarti, jai shiv omkara aarti, shiv aarti lyrics hindi, shiv aarti lyrics in hindi, shiv aanti in hindi, शिव आरती, ओम जय शिव ओंकारा, भोलेनाथ आरती, शिव जी का आरती,